Malaysia के पीएम ने कहा, भारत के सामने हम कहीं नहीं टिकते

लांकावी (मलेशिया)। Malaysia के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने सोमवार को स्पष्ट किया कि उनका देश अपने पाम ऑइल के आयात का बहिष्कार किए जाने पर भारत के खिलाफ कोई जवाबी कार्यवाही नहीं करेगा।
उन्होंने यह माना कि भारत जैसी विशाल अर्थव्यवस्था के सामने Malaysia कहीं नहीं टिकता है इसलिए जवाबी कार्यवाही की सवाल ही नहीं उठता है। मलेशियाई पीएम ने कहा, ‘हम जवाबी कार्यवाही करने के लिहाज से बेहद छोटे हैं।’
उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘हमें इससे उबरने का तरीका और साधन ढूंढना होगा।’
भारत से मलेशिया को बड़ा झटका
भारत खाद्य तेलों का दुनिया का सबसे बड़ा आयातक है जबकि मलेशिया भारत को सबसे ज्यादा खाद्य तेल निर्यात करता है। दरअसल, मलेशिया के प्रधानमंत्री ने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 को निष्प्रभावी किए जाने और नागरिकता कानून में संशोधन किए जाने पर भारत सरकार की आलोचना की तो जवाब में भारत ने इस महीने से मलेशिया के पाम ऑइल का आयात रोक दिया। चूंकि मलेशिया दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा पाम तेल का उत्पादक देश है, ऐसे में उसके सबसे बड़े आयातक के बहिष्कार से बहुत बड़ा झटका लगा है।
मलेशिया के लिए बड़ा संकट
भारत पिछले पांच वर्षों से मलेशिया के पाम तेल का सबसे बड़ा बाजार रहा है। अब इसके बहिष्कार से मलेशिया को नया बाजार ढूंढना होगा लेकिन उसके सामने संकट यह है कि इतनी बड़ी मात्रा में तेल खरीदने वाला कोई एक बाजार मिलना लगभग नामुमकिन है। यही कारण है कि पिछले हफ्ते फ्यूचर मार्केट में बेंचमार्क मलेशिया पाम ऑइल का दाम 10 प्रतिशत गिर गया जो 11 साल की सबसे बड़ी साप्ताहिक गिरावट है।
आर्टिकल 370, CAA पर बिगड़ी बात
मुस्लिम बहुल देश मलेशिया के 94 वर्षीय प्रधानमंत्री ने भारत के नागरिकता (संशोधन) कानून 2019 की भी आलोचना की थी। उन्होंने आर्टिकल 370 हटाए जाने को कश्मीर पर भारत का आक्रमण बताया था। उन्होंने सोमवार को सीएए की फिर से निंदा करते हुए कहा कि यह ‘बिल्कुल अनुचित’ है।
जाकिर नाइक पर भी अड़ा है मलेशिया
मलेशिया ने इस्लामिक धर्मगुरु जाकिर नाइक को भी शरण दे रखी है। भारत ने नाइक के पर्मानेंट रेजिडेंट स्टेटस वापस लेने की मांग की थी जिसे मलेशिया ने ठुकरा दिया था। स्वाभाविक है कि भारत इससे भी नाराज है। नाइक मनी लॉन्ड्रिंग और नफरत फैलाने वाले भाषण देने के आरोपों में भारत में वांछित है। वह तीन साल पहले भारत से भागकर मलेशिया में रह रहा है।
महातिर ने यहां तक कहा कि भारत सरकार अगर निष्पक्ष न्यायिक कार्यवाही का भरोसा देगा तो भी उसे नाइक को नहीं सौंपा जाएगा क्योंकि वहां नाइक को प्रताड़ित किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि जाकिर नाइक को किसी दूसरे देश में भेजने की व्यवस्था की जा सकती है। मलेशि

10 tak plus

10तक प्लस एक दस्तक है जुर्म और अन्याय के खिलाफ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © 2020 10Tak Plus NEWS All rights reserved.Powered by SHEETALMAYA