तपती धूप में सड़क पर जिंदगियां, मां के गोदी में लाल, कोई बैठाए ‘कन्हैया’, देखिए दिल छू लेने वाली तस्वीरें

 ›  न्यूज डेस्क, 10 तक प्लस , आगरा Updated Sat, 16 May 2020 02:06 AM

घर पहुंचने की उम्मीद में तपती धूप में बच्चों को गोद में लिए प्रवासी श्रमिक

1 of 7घर पहुंचने की उम्मीद में तपती धूप में बच्चों को गोद में लिए प्रवासी श्रमिक – फोटो : 10 तक प्लस

एड फ्री प्रीमियम एक्सपीरियंस के लिए 10 तक प्लस सब्सक्राइब करें

Subscribe Nowतपती दुपहरी, हाईवे पर सिर्फ प्रवासी मजदूर, रेला है कि रुकने का नाम ही नहीं ले रहा। कोई मजदूर कंधे पर बच्चे को बिठाए है तो कोई मां लाल को गोदी में लिए है। गृहस्थी का सामान भी सिर पर लिए हैं। एनए-2 पर सुबह से शाम तक हजारों लोग गुजर रहे हैं। ये सभी हरियाणा और राजस्थान से आ रहे हैं। किसी को बिहार जाना है तो किसी को पूर्वी उत्तर प्रदेश। मंजिल दूर है, वाहन है नहीं, मगर जज्बा है कि पैदल ही चले जा रहे हैं।विज्ञापन

घर पहुंचने के लिए निकले प्रवासी मजदूर

2 of 7घर पहुंचने के लिए निकले प्रवासी मजदूर – फोटो : 10 तक प्लस झज्जर में मजदूरी करते थे। फैक्टरी बंद हो गई। अब रोटी भी नहीं मिल रही थी। घर जा रहे हैं, वहां और कुछ न सही परिवार तो साथ होगा, रोटी तो मिल ही जाएगी – मनोज सिंह समस्तीपुर 

घर पहुंचने की उम्मीद में प्रवासी श्रमिक

3 of 7घर पहुंचने की उम्मीद में प्रवासी श्रमिक – फोटो : 10 तक प्लस गुड़गांव में कारखाने बंद होने के बाद भी हम रुके रहे। प्रशासन ने भोजन का इंतजाम किया। अब यह नहीं मिल रहा। बच्चों को भूख से रोते देख नहीं पाए, सब लोग चले तो हम भी चल दिए .. प्रेमा देवी, बस्ती
 

India News

केरल में मानसून की शुरुआत में चार दिन की हो सकती है देरी: मौसम विभाग

Prayagraj

प्रयागराज परिवार हत्याकांड: बेरहम बेटे के मन में अपनों की मौत का दर्द न था, प्रेमिका को…

Gorakhpur

तस्वीरें: लॉकडाउन के दौरान यह विदेशी परिवार बोलने लगा भोजपुरी, कहा- इसमें अपनापन है

Prayagraj

प्रयागराज परिवार हत्याकांड: आरोपी बेटे ने बताया-कैसे खेला गया खूनी खेल, सुनकर अफसर भी रह गए दंग

Health & Fitness

कोरोना की वैक्सीन पर बड़ी कामयाबी, बंदरों में विकसित हुई एंटीबॉडी, अब इंसानों पर हो रहा ट्रायल

Jammu

सेना के प्रहार से आतंकी संगठनों में ठनी रार, वायरल ऑडियो सुन लोटपोट हो रहे हैं लोग

ट्रक पर जान जोखिम में डालकर जाने को मजबूर प्रवासी मजदूर

4 of 7ट्रक पर जान जोखिम में डालकर जाने को मजबूर प्रवासी मजदूर – फोटो : 10 तक प्लस गांव में घर है, उसी में सब मिलकर रहेंगे। यह संकट का समय है। इसके गुजर जाने केबाद ही वापस आएंगे – बंशीराम, बस्ती

पैदल जा रहे श्रमिकों को ट्रक में सवार कराता पुलिसकर्मी

5 of 7पैदल जा रहे श्रमिकों को ट्रक में सवार कराता पुलिसकर्मी – फोटो : 10 तक प्लस पत्नी बीमार हो गई, दवा तक नहीं मिली। अगर कुछ हो जाता तो परिवार वालों को क्या जवाब देते, इसलिए गांव जा रहे हैं, जो भी होगा देखा जाएगा, अपनो केबीच तो रहेंगे – संदीप कुमार, समस्तीपुर 

आईएसबीटी पर घर पहुंचने के लिए पहुंचे श्रमिक

6 of 7आईएसबीटी पर घर पहुंचने के लिए पहुंचे श्रमिक – फोटो : 10 तक प्लस शहर में प्रवासी श्रमिकों को आईएसबीटी पर एकत्रित करने के बाद उन्हें जिले के हिसाब से लिस्ट बनाई जा रही है। इसके बाद श्रमिकों के खाने के लिए प्रशासन व पुलिस की ओर से इंतजाम किया जा रहा है। शुक्रवार को तकरीबन एक हजार श्रमिकों को 40 बसों से प्रदेश में विभिन्न जिलों में भेजा गया। हरियाणा, पंजाब, राजस्थान और दिल्ली की ओर से श्रमिकों के जत्थों का आगरा में पहुंचने का सिलसिला शुक्रवार को भी जारी रहा। दोपहर तक आईएसबीटी पर 600 से अधिक श्रमिक जमा हो गए। इसके बाद परिवहन निगम के कर्मचारियों ने मजदूरों की जिले के हिसाब से लिस्ट तैयार करवाई। थर्मल स्क्रीनिंग करवाई गई। इसके बाद उन्हें बलिया, सुल्तानपुर, लखनऊ, कानपुर देहात, फतेहपुर, उन्नाव, कन्नौज, इटावा भेजा गया।

रेलवे स्टेशन पर आने वाले श्रमिक अपने घर जाने के लिए रजिस्ट्रेशन कराते हुए

7 of 7रेलवे स्टेशन पर आने वाले श्रमिक अपने घर जाने के लिए रजिस्ट्रेशन कराते हुए- फोटो : 10 तक प्लस आगरा कैंट और आगरा फोर्ट स्टेशनों पर शुक्रवार को 1500 से अधिक श्रमिकों को श्रमिक स्पेशल ट्रेनों से उतारा गया। तीन ट्रेनें आगरा कैंट और एक आगरा फोर्ट स्टेशन पर रोकी गई। दाहोद (गुजरात) से जौनपुर तक संचालित श्रमिक स्पेशल ट्रेन शुक्रवार की सुबह 5.38 बजे आगरा फोर्ट स्टेशन पर पहुंची। इस ट्रेन से आगरा व आसपास के जिलों के 705 यात्रियों को उतारा गया। यात्रियों की खुशी का ठिकाना नहीं था, उनका कहना था कि 15 दिन से अपनी बारी का इंतजार कर रहे थे, आखिरकार घर के पास पहुंच गए। दूसरी पुणे से गोरखपुर जा रही थी। आगरा कैंट स्टेशन पर सुबह 7.17 बजे रुकी। इस ट्रेन से 215 श्रमिकों को उतारा गया। तीसरी ट्रेन अहमदाबाद से आगरा कैंट 11.45 बजे पहुंची। इस ट्रेन से 249 यात्रियों को उतारा गया। चौथी ट्रेन भावनगर से वाराणसी  दोपहर साढ़े 12 बजे आगरा कैंट स्टेशन पर पहुंची। इस ट्रेन से 305 श्रमिकों को आगरा कैंट पर उतारा गया। ये बाह, पिनाहट, सादाबाद, हाथरस, एटा और फिरोजाबाद के रहने वाले थे, जिन्हें बसों से भेजा गया।

10 tak plus

10तक प्लस एक दस्तक है जुर्म और अन्याय के खिलाफ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © 2020 10Tak Plus NEWS All rights reserved.Powered by SHEETALMAYA