लापरवाह सिस्टमः स्ट्रेचर न व्हीलचेयर, घिसटते हुए पहुंचते मरीज, वार्ड ब्यॉय भी नहीं मिला

न्यूज डेस्क, 10 तक प्लस , आगरा Updated Wed, 13 May 2020 12:02 pm

पैर में फ्रैक्चर का मरीज

1 of 5पैर में फ्रैक्चर का मरीज – फोटो : 10 तक प्लस

खास बातें

घंटों के इंतजार के बाद भी नहीं होती सुनवाईरिक्शे पर लेटा मरीज और पेड़ के नीचे इलाज के इंतजार में मरीज। एसएन मेडिकल कॉलेज में यही हाल देखने मिल रहा है। यहां व्यवस्थाओं की कमी के चलते मरीजों को इलाज के लिए भटकना पड़ रहा है। व्हीलचेयर और स्ट्रेचर तक नहीं मिल रहे। इससे मरीजों को और ज्यादा परेशानी हो रही है। चलने-फिरने में लाचार मरीजों को परिजन गोद में ले जाते हैं या धीरे-धीरे घिसटते हुए जाना पड़ता है। पढ़िए लापरवाह सिस्टम की पूरी खबर अगली स्लाइड में……

एसएन मेडिकल कॉलेज

2 of 5एसएन मेडिकल कॉलेज – फोटो : 10 तक प्लस कोरोना वायरस के चलते एसएन मेडिकल कॉलेज में डिजिटल और ट्रायल ओपीडी चल रही है। डिजिटल ओपीडी पुरानी इमारत में चल रही है, जानकारी न होने के कारण कई मरीज यहां उपचार कराने पहुंच जाते हैं। इनको एमजी रोड स्थित इमरजेंसी भेज दिया जाता है। इसके लिए स्ट्रेचर और व्हीलचेयर नहीं मिलते, जिससे मरीजों को परेशानी हो रही है।

एसएन मेडिकल कॉलेज से बाहर निकलते मरीज (फाइल फोटो)

3 of 5एसएन मेडिकल कॉलेज से बाहर निकलते मरीज (फाइल फोटो) – फोटो : 10 तक प्लस इमरजेंसी में सुबह 10 से दोपहर दो बजे तक मरीजों की संख्या अधिक रहती है। यहां भी वार्ड ब्वॉय नहीं रहते और व्हीलचेयर, स्ट्रेचर भी नहीं है। इससे फ्रेक्चर और चलने-फिरने में लाचार मरीजों को परेशानी हो रही है। प्राचार्य डॉ. जीके अनेजा ने बताया कि व्हीलचेयर-स्ट्रेचर की व्यवस्था है, वार्ड ब्वॉय को अपनी सुरक्षा करते हुए चलने-फिरने में लाचार मरीजों को ओपीडी तक पहुंचाने के निर्देश हैं, इनकी रिपोर्ट मांगता हूं।

Agra

लॉकडाउनः दो महीने के मासूम को सीने से लगाए सिसकती रही मां, नहीं मिला इलाज, मौत

Agra

नोडल अफसरों को दिए जनप्रतिनिधियों ने सुझाव, ‘क्वारंटीन सेंटर और एसएन की व्यवस्था सुधारें’

Agra

इलाज को तरसते मरीजः आइसोलेशन वार्ड में पांच घंटे तड़पी महिला, बुजुर्ग की गई जान

Agra

‘मैं खून से सने स्ट्रेचर पर पड़ी हूं…प्लीज मुझे बचा लीजिए’, प्रसूता के वीडियो से मचा हड़कंप

Agra

लापरवाह सिस्टमः पिता के शव के लिए साढ़े सात घंटे भटकते रहे बेटे

India News

खुशखबर: इस बार नहीं पड़ेगी सूरज के तपिश की मार, नहीं हैं ज्यादा गर्मी के आसार

पैर में फ्रैक्चर का मरीज सुरेश और जमीन पर बैठी महिलाएं

4 of 5पैर में फ्रैक्चर का मरीज सुरेश और जमीन पर बैठी महिलाएं – फोटो : 10 तक प्लस ताजगंज के सुरेश चंद का पैर में फ्रैक्चर हो गया है, डॉक्टरों ने ऑपरेशन करने के बाद इनको रुटीन जांच के लिए बुलाया था। इनको स्ट्रेचर नहीं मिला और इमरजेंसी पर घंटों इंतजार करते रहे, वार्ड ब्वॉय भी नहीं आया। 

रेहड़ी पर मरीज को दिखाने जाता परिवार

5 of 5रेहड़ी पर मरीज को दिखाने जाता परिवार – फोटो :10 तक प्लस शमसाबाद की महिला के डेढ़ महीने के बच्चे के पेट फूल गया, इसको दिखाने के लिए बाल रोग विभाग आए, यहां से उसे इमरजेंसी जाने को कहा। यहां भी सुनवाई न होने पर वह काफी देर तक पेड़ के नीचे बैठे रहे। वहीं कई मरीज एंबुलेंस न मिलने के कारण रेहड़ी आदि पर आ रहे हैं।

10 tak plus

10तक प्लस एक दस्तक है जुर्म और अन्याय के खिलाफ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © 2020 10Tak Plus NEWS All rights reserved.Powered by SHEETALMAYA